जीवन हे अनमोल

जीवन हे अनमोल


ये तस्वीर चायनीज़ हेनन हॉस्पिटल में ली गई है

 जिसमें एक कैंसर की मरीज नोटों से भरा बैग लेकर डॉक्टर के पास आई और

 उसने डॉक्टर से कहा- मेरी जिंदगी बचाएँ।

 मेरे पास और भी बहुत दौलत है

 तुम्हें देने के लिए लेकिन जब डॉक्टर ने बताया-

 अब उसका इलाज मुमकिन नहीं है

 क्योंकि उसका कैंसर लास्ट स्टेज पर है

 और अब डाक्टर्स उसकी जिंदगी नहीं बचा सकते।


तो वह बहुत गुस्सा हुई और पागलों की तरह चीखते हुए

 पूरे हॉस्पिटल के बरामदे में नोटों को फेंकती

 गई और बोलती रही-

 "क्या फ़ायदा इस दौलत का जो मेरी जान नहीं बचा सकती।

" क्या फ़ायदा इतना अमीर होने का,

 ये दौलत मुझे सेहत नहीं दे सकती।

 ये दौलत जिंदगी नहीं दे सकती। 😢

इसलिए दोस्तों भाग-दौड़ वाली इस ज़िन्दगी में सिर्फ पैसे

कमाने में व्यस्त ना रहे,

 सेहत पर भी ध्यान दे।.

...जीवन हे अनमोल हे मानव ना पैसो से तोल....सतनाम

सदगुरू...सरीर खयाल रको मितरो

शिवराज कि कलम से

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जो लोग पत्नी का मजाक उड़ाते है।

एक फेमस हॉस्पिटल

“ मैंने दहेज़ नहीं माँगा ”