*ज़िन्दगी से लम्हे चुरा*
 *बटुए मे रखता रहा!*

*फुरसत से खरचूंगा*
*बस यही सोचता रहा।*

*उधड़ती रही जेब*
*करता रहा तुरपाई*

*फिसलती रही खुशियाँ*
*करता रहा भरपाई।*

*इक दिन फुरसत पायी*
*सोचा .......*
*खुद को आज रिझाऊं*
*बरसों से जो जोड़े*
*वो लम्हे खर्च आऊं।*

*खोला बटुआ..लम्हे न थे*
*जाने कहाँ रीत गए!*

*मैंने तो खर्चे नही*
*जाने कैसे बीत गए !!*

 *फुरसत मिली थी सोचा*
 *खुद से ही मिल आऊं।*

*आईने में देखा जो*
*पहचान  ही न पाऊँ।*

*ध्यान से देखा बालों पे*
*चांदी सा चढ़ा था,*

*था तो मुझ जैसा पर*
*जाने कौन खड़ा था।*

     (हम सब की कहानी )

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट